Media

While India has a vibrant startup ecosystem, it is often confined to metros and Tier I cities. States like Bihar, Jharkhand, Uttar Pradesh, West Bengal, and Odisha, a few Tier II and III towns, and rural India lack an entrepreneurial ecosystem, which inhibits their opportunities.

Bihar — a state often known for its acumen in politics — is now showing its entrepreneurial spirit. From co-working to agritech startups — Bihar startups are bringing modern solutions to ensure entrepreneurship is not considered only a ‘metro’ phenomenon.

Dr Niraj Jha — who received training in the emergency care segment — says the emergency care system is weak across India. For example, we mostly find junior doctors in the emergency care section, but we need the most senior doctors in place because one doesn’t know what case would come in.

New Delhi [India], June 3 (ANI/SRV Media): Hanuman has a “No refusal policy”, a Bihar based start-up offering digital aggregator of healthcare services since June 2020, was pioneered by four visionaries to challenge and streamline most devastating, neglected, high population in rural areas due to lack of awareness and unorganized healthcare sector in India. Health Accessible in Need and Utility for MANkind is Hanuman – Brings Sanjeevni to life” is the New Era Digital Emergency Healthcare service pioneered in Patna, Bihar expanded their ambulance services to Delhi – NCR, Mumbai & Jharkhand by calling on our toll-free number 1800-88-915-88 or…

New Delhi [India], June 3 (ANI/SRV Media): Hanuman has a “No refusal policy”, a Bihar based start-up offering digital aggregator of healthcare services since June 2020, was pioneered by four visionaries to challenge and streamline most devastating, neglected, high population in rural areas due to lack of awareness and unorganized healthcare sector in India. Health Accessible in Need and Utility for MANkind is Hanuman – Brings Sanjeevni to life” is the New Era Digital Emergency Healthcare service pioneered in Patna, Bihar expanded their ambulance services to Delhi – NCR, Mumbai & Jharkhand by calling on our toll-free number 1800-88-915-88 or…

स्टटेडेस्क/ पटना : पिछले महीने जब कोरोना संकट गहराया, बड़ी तादाद में लोग अस्पतालों में भर्ती होने लगे और ऑक्सीजन समेत कई चीजों मसलन दवाई, अस्पताल में बेड, एम्बुलेंस, एवं जांच उपकरणों की भारी किल्लत होने लगी, जिसे सभी ने महसूस किया. ऐसी निराशा की घड़ी में कई लोगों ने अपने सूझबूझ और साहस का परिचय दिया। उन्होंने यथासंभव प्रयास कर कोरोना महामारी से अपनी जंग जारी रखी और हज़ारों लोगों की मदद भी की। किसी ने रोटी बैंक बना कर लोगों को खाना पहुँचाया, कुछ ने प्लाज्मा की व्यवस्था के लिए कई सोशल मीडिया, वेबसाइट और अन्य माध्यम से…

While India has a vibrant startup ecosystem, it is often confined to metros and Tier I cities. States like Bihar, Jharkhand, Uttar Pradesh, West Bengal, and Odisha, a few Tier II and III towns, and rural India lack an entrepreneurial ecosystem, which inhibits their opportunities.

Dr Niraj Jha — who received training in the emergency care segment — says the emergency care system is weak across India. For example, we mostly find junior doctors in the emergency care section, but we need the most senior doctors in place because one doesn’t know what case would come in.

स्टटेडेस्क/ पटना : पिछले महीने जब कोरोना संकट गहराया, बड़ी तादाद में लोग अस्पतालों में भर्ती होने लगे और ऑक्सीजन समेत कई चीजों मसलन दवाई, अस्पताल में बेड, एम्बुलेंस, एवं जांच उपकरणों की भारी किल्लत होने लगी, जिसे सभी ने महसूस किया. ऐसी निराशा की घड़ी में कई लोगों ने अपने सूझबूझ और साहस का परिचय दिया। उन्होंने यथासंभव प्रयास कर कोरोना महामारी से अपनी जंग जारी रखी और हज़ारों लोगों की मदद भी की। किसी ने रोटी बैंक बना कर लोगों को खाना पहुँचाया, कुछ ने प्लाज्मा की व्यवस्था के लिए कई सोशल मीडिया, वेबसाइट और अन्य माध्यम से…

बिहार के पटना जिले के रहने वाले नीरज झा पेशे से डॉक्टर हैं। कई अस्पतालों में हेल्थकेयर को लेकर काम कर चुके हैं। कुछ अस्पतालों में हॉस्पिटल मैनेजमेंट कंसल्टेंट के रूप में भी उन्होंने काम किया है। पिछले साल जब कोरोना फैला तो हेल्थ सिस्टम सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ। किसी को दवाइयां नहीं मिलती तो किसी को एम्बुलेंस नहीं मिल रही थी। ऐसे में नीरज को लगा कि इन सरोकारों को लेकर कुछ काम करना चाहिए। इसके बाद जुलाई 2020 में उन्होंने हनुमान नाम से एक स्टार्टअप लॉन्च किया। जिसके जरिये वे लोगों को एम्बुलेंस, दवाइयां, ऑक्सीजन और होम नर्सिंग…

Dr Niraj Jha, who received training in the emergency care segment, says the emergency care system is weak across the country. For example, we mostly find junior doctors in the emergency care section, but we need the most senior doctors in place because one doesn’t know what case would come in.

टीम जागरण, पटना। इस तरह की एंबुलेंस पहली बार सामने आई है। युवा डॉ. नीरज ने कोरोना संक्रमण काल में नया प्रयोग कर पटना में सस्ती और सुरक्षित एंबुलेंस सेवा उपलब्ध कराने का काम किया। छह एंबुलेंस अब तक 1500 जरूरतमंद मरीजों के काम आ चुकी हैं। ‘हनुमान’ नामक यह सस्ती एंबुलेंस सेवा अब एप पर भी जोड़ दी गई है। अन्य के मुकाबले किराया भी न के बराबर पड़ता है। पढ़ें पटना से जागरण संवाददाता अंकिता भारद्वाज की रिपोर्ट। संकट में घिरे एक स्वजन को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए जहां भी बन पड़ा, बात की। हर नंबर पर…

    Make An Appointment

    Enquiry Now
    close slider